Will Power | इच्छा शक्ति | संकल्प शक्ति।

Will Power | इच्छा शक्ति | संकल्प शक्ति।

Will Power
Will Power
Will Power | इच्छा शक्ति | संकल्प शक्ति।

जीवन के किसी भी क्षेत्र में सफलता हासिल करने के लिए आपको इच्छा शक्ति बहुत आवश्यक है। Will Power के बिना सफलता पाना असम्भव है। कठिन और मुश्किल परिस्थितियों में इच्छा शक्ति ही है जो आपको उनसे लड़ने और जीतने का हौसला देती है। ऐसी परिस्थितियों में इच्छा शक्ति और आत्म नियंत्रण दोनों ही बेहद जरूरी हैं, आपको सकारात्मक बनाए रखने के लिए।

“इच्छा सफलता का शुरुआती बिंदु है, यह हमेशा याद रखें। जिस तरह छोटी आग से कम गर्माहट मिलती है, उसी तरह कमजोर इच्छा से कमजोर परिणाम मिलते हैं।”

— नेपोलियन हिल

What is will power | इच्छा शक्ति क्या है?

Will power (इच्छा शक्ति), दो हिंदी शब्दों का योग है : इच्छा + शक्ति। जो कि आपके किसी भी कार्य को करने की दृढ़ इच्छा (will) और उस इच्छा को हासिल करने की शक्ति (power) से मिलकर बना है। रोजमर्रा की जिंदगी में भी सुखी जीवन जीने के लिए आपको इच्छा शक्ति की आवश्यकता होती है।

“इच्छा शक्ति के अभाव में सद्गुणों और योग्यताओं का परिपूर्ण संग्रह भी पूर्णतया बेकार है।”

— एलिस्टर क्रोले

“किसी भी योग्य चीज की उपलब्धि के लिए इच्छा शक्ति जरूरी है।”

— ब्रायन ट्रेसी

Wikipedia के अनुसार :-

Will, आमतौर पर, मन का संकाय है जो निर्णय के क्षण में, विभिन्न इच्छाओं के बीच मौजूद इच्छा का चयन करता है। यह स्वयं किसी विशेष इच्छा का उल्लेख नहीं करता है, बल्कि किसी की इच्छाओं के बीच से चुनने के लिए जिम्मेदार तंत्र के लिए है।

दर्शन में, मन के कुछ हिस्सों के साथ – साथ तर्क और समझ के रूप में इच्छा शक्ति महत्त्वपूर्ण है। जानबूझकर कार्यवाही को सक्षम करने में इसकी भूमिका के कारण इसे नैतिकता के क्षेत्र में केंद्रीय माना जाता है।

फ्रेडरिक नीत्शे के दर्शन में, “इच्छा शक्ति एक प्रमुख अवधारणा है। Will power का वर्णन नीत्शे ने मनुष्यों में मुख्य प्रेरक शक्ति (motivation power) को माना है।”

“इच्छा शक्ति कामयाबी की चाबी है। कामयाब लोग अपनी इच्छा शक्ति को प्रयोग में लाकर उदासीनता, शंका और डर को जीतने के लिए संघर्ष करते हैं; फिर चाहे वे कैसा भी महसूस करते हैं।”

— Dan Milman

“जिंदगी के ज्यादातर काम हमारी पहुंच में होते हैं, लेकिन निर्णय इच्छा शक्ति की मांग करते हैं।”

— रॉबर्ट मैक्की

दृढ़ इच्छाशक्ति वह वृत्ति चक्र है जिसके अंतर्गत प्रत्यय, अनुभूति, इच्छा, प्रवृत्ति, शरीर और धर्म सबका योग रहता है। जो संकल्प को साकार करने का माध्यम बनती है, ऐसी बलवती इच्छा को दृढ़ इच्छाशक्ति कहते हैं।

Will Power | इच्छा शक्ति | संकल्प शक्ति।

How will power is generated | इच्छा शक्ति कैसे उत्पन्न होती है?

यह एक ऐसी प्रतिक्रिया है जो मस्तिष्क और शरीर दोनों पर निर्भर करती है। माथे के पीछे मस्तिष्क का खंड (प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स) वह हिस्सा है जो हमारे व्यवहार को विनियमित करने जैसी चीजों में मदद करता है। इच्छा शक्ति (will power) और आत्म – संयम इसी के अंतर्गत आते हैं। हमारी इच्छाएं यहीं से उत्पन्न होती हैं, जो मन को दृढ़ संकल्पित करती हैं।

How to increase will power | इच्छा शक्ति को कैसे बढ़ायें?

जिंदगी के किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने हेतु आपकी इच्छा शक्ति और दृढ़ संकल्प आवश्यक हैं। Will power के बिना किसी भी चुनौती को face करना या जीतना मुश्किल है। इसलिए जीवन में सफल होने के लिए दृढ़ इच्छा शक्ति का होना बहुत जरूरी है। व्यक्ति की इच्छा शक्ति ही ऐसी चीज है जो कि उसको कड़ी मेहनत करके उसके लक्ष्यों (Goals) को हासिल करने में मदद करती है।

नीचे दर्शाए गए 9 बिंदुओं पर अमल करके अपनी will power को बढ़ाया जा सकता है :-


1. Positive mental attitude | सकारात्मक मानसिक नजरिया रखें।

सकारात्मक सोच आपके इरादों को दृढ़ व अटल बनाती है। इसलिए चीजों के प्रति अपना रवैया सकारात्मक रखें। ऐसा करने से आपकी इच्छा शक्ति का विस्तार होता है और आपका जीवन संभावनाओं से परिपूर्ण होता है। 

“आपका मस्तिष्क जिस चीज की कल्पना कर सकता है और जिस पर विश्वास कर सकता है, पॉजिटिव मेंटल एट्टीट्यूड के साथ आप उसे हासिल भी कर सकते हैं।”

— नेपोलियन हिल

इसके विपरीत यदि आप अपना नजरिया नकारात्मक रखेंगे, तो वे आपकी इच्छा शक्ति को कमजोर बनाएगी। जिससे आपको अपना लक्ष्य हासिल करने में मुश्किलों का सामान करना पड़ेगा।जब आपका मानसिक दृष्टिकोण सकारात्मक होता है तो आप खुद से तथा दूसरों से खुश रहने लगते हैं।

सकारात्मक मानसिक नजरिया का प्रभाव स्वचालित होता है लेकिन इसको हासिल करना स्वचालित नहीं होता है। इसके विकास के लिए आपको निरंतर अभ्यास की आवश्यकता होती है। Positive mental attitude आपकी आदत बन जानी चाहिए, आप में इतनी अंतर्निहित कि आप इसे हमेशा दिखाएं।


2. Reduce stress | तनाव को कम करें।

Reduce stress
तनाव आपकी इच्छा शक्ति को कमजोर करता है। तनाव में लिया गया कोई भी फैसला ठीक नहीं हो सकता है। इच्छा शक्ति में “शक्ति” (power) शब्द का इस्तेमाल होता है जबकि तनाव आपकी शक्ति को कमजोर कर देता है। इसलिए तनाव से दूर रहें या फिर इसे कम करने की कोशिश करें।

जब भी आप तनाव में होते हैं तो अपनी आंखों को बंद करके गहरी सांस लें। कुछ देर के लिए रोक कर रखें और फिर छोड़ें। यह एक ऐसा व्यायाम है, जो आपके अंतर्मन को शांति प्रदान करता है और तनाव को दूर करता है। विशेषज्ञों के अनुसार deep breathing करने से मन को सुकून मिलता है।

आदर्श नींद भी तनावमुक्त जीवन के लिए एक विशेष उपाय है जिसे सबको करना चाहिए। व्यस्त जिंदगी में लोग भरपूर नींद भी नहीं ले पाते हैं जिसके फलस्वरूप तनाव से ग्रसित होने लगती है। 


3. Proper nutrition and exercise | उपयुक्त पोषण और व्यायाम।

आपके दिमाग की मांसपेशियों को सही तरीके से और सफलतापूर्वक काम करने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है। यदि आप अपने दिमाग की मांसपेशियों को अधिक मजबूत बनाना चाहते हैं तो आपको अपने आहार में अधिक प्रोटीन शामिल करने की आवश्यकता है।

यदि आप थकान, कमजोरी या बीमारी महसूस करते हैं तो जाहिर है कि आपकी इच्छा शक्ति (will power) भी कमजोर होने लगती है। स्वस्थ्य शरीर में ही स्वस्थ्य मस्तिष्क का वास होता है। इसलिए मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों को अच्छा रखने के लिए आपको प्रतिदिन सही पोषण और व्यायाम करना चाहिए।

स्वस्थ्य शरीर जोश से भरा हुआ रहता है। किसी भी कार्य को करने में आप सक्षम रहते हैं क्योंकि आपकी इच्छा शक्ति मजबूत होती है। स्वस्थ्य दिमाग से आप अच्छे और सटीक निर्णय ले पाते हैं, जो कि आपको अनुकूल परिणाम देते हैं।


4. Do meditation and yoga | ध्यान और योग करें।

Meditation and yoga

ध्यान और योग करने से आपका अंतर्मन शांत होता है। जिससे कि आपका मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहता है। बेहतर मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य आपके सुखी जीवन का आधार है। इसलिए अपनी दिनचर्या में meditation और yoga को शामिल करें। ये आपके तंत्रिका तंत्र और मन को तनाव और थकान से मुक्त करते हैं। और आपकी क्षमताओं को बढ़ाते हैं।

प्रतिदिन ध्यान और योग करने से आप रिलैक्स महसूस करते हैं। ये आपके फोकस को बढ़ाते हैं और एकाग्रता (concentration) में भी वृद्धि करते हैं। फलस्वरूप आपकी इच्छा शक्ति बढ़ती है और आप दृढ़ संकल्पित होते हैं।

यह भी पढ़ें :- योग द्वारा मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाएं।


5. Read motivational books | प्रेरक किताबें पढ़ें।

किसी भी कार्य को करने के लिए इच्छा शक्ति की आवश्यकता होती है। और उस इच्छा शक्ति को बनाए रखने के लिए आपको motivation की जरूरत होती है। अपना Motivation बढ़ाने के लिए आपको मोटिवेशनल बुक्स पढ़नी चाहिए। 

दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाने के लिए आपको motivation की आवश्यकता होती है। हम और आप सभी सफलता पाने के लिए जिंदगी में struggle करते हैं। कभी – कभी खराब परिस्थितियां आपकी इच्छा शक्ति को कमजोर कर देती हैं। ऐसे में आपको motivation की आवश्यकता होती है।

जब कोई मदद नहीं करता है तब बुक्स ही हैं जो आपको नया रास्ता दिखाती हैं। जो लोग बहुत सफल हो चुके हैं उनके विचार और कार्यविधियों को आप तक पहुंचाती हैं। वैसे भी किसी ने कहा है कि – “किताबें इंसान की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं।”


6. Believe in yourself | स्वयं में विश्वास रखो।

विश्वास और आस्था से बड़े से बड़ा काम पूरा किया जा सकता है। जब तक आपको खुद पर ये विश्वास नहीं है कि आप इसे कर सकते हैं तो आप उस कार्य को पूरा नहीं कर पाएंगे। दुनिया उसे मानती है जो उसे दिखाई देता है। यदि आप स्वयं पर विश्वास रखते हैं तो लोग भी इसे स्वीकार करने लगेंगे।

यहां पर बात विश्वास की हो रही है, ओवर कॉन्फिडेंस की नहीं। आपको ये मानना शुरू करना पड़ेगा कि – “मैं इसे कर सकता हूं।” जब आप ऐसा करना शुरू कर देते हैं तो आपके अंदर एक ज्वलंत इच्छा शक्ति जागृत हो जाती है। 

ज्वलंत इच्छा शक्ति और दृढ़ संकल्प के साथ किया गया कार्य आपको अनुकूल परिणाम देता है। तो आज से ही अपने आप पर विश्वास रखिए और अपनी इच्छा शक्ति को विकसित कीजिए। आप अपने लक्ष्य को जरुर हासिल करेंगे।


7. Choose self motivator | आत्म – प्रेरक चुनें।

आप एक ऐसा आत्म प्रेरक चुनें जो आपके महानतम विचारों का प्रतिबिंब हो। इससे हमेशा आपको motivation मिलती रहेगी और याद भी रहेगी कि इनके अनुरूप कार्य करना है। आपका लक्ष्य एक ऐसा व्यक्ति बनना है जो उन सिद्धांतों के अनुरूप काम करे। और एक ऐसे व्यक्तित्व का निर्माण करे जो अपनी कथनी और करनी में एक समान हो।

कई सफल लोगों ने कहा है कि अच्छी किताब और अच्छे quotes से उनकी जिंदगी में पॉजिटिव बदलाव हुए हैं। जब भी आप निराशा और मुश्किलों से परेशान हैं तो उस समय सेल्फ हेल्प बुक्स और quotes आपमें आत्म प्रेरक शक्ति जागृत करेंगे। आप भी अपनी जिंदगी में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए इन्हें अपना सेल्फ motivator बनाएं।


8. Listen to motivational audio and video | प्रेरक ऑडियो और वीडियो सुनें।

हर दिन सुबह – सुबह एक मोटिवेशनल ऑडियो व वीडियो अवश्य सुनें। ऐसा करने से आप सुबह – सुबह इतने मोटिवेट हो जाएंगे कि उस दिन कोई भी समस्या आने से आप उसका निवारण करने में सक्षम रहेंगे। Motivation बढ़ेगा तो आपकी इच्छा शक्ति में भी इजाफा होगा।

ज्यादातर लोग अपनी रोजमर्रा की समस्याओं में उलझे रहते हैं और उनके सामने अपने घुटने टेक देते हैं। उनकी इच्छा शक्ति कमजोर हो जाती है और वे अपने लक्ष्य हासिल नहीं कर पाते हैं। रोजाना एक मोटिवेशनल ऑडियो और वीडियो सुनने से पूरे दिन बूस्टर का काम करता है।

एक बार सोचिए, जब आप स्टीव जॉब्स, बिल गेट्स, वॉरेन बफेट, मार्क जुकरबर्ग और एलोन मस्क जैसे लोगों के बारे में पढ़ते हैं। तो क्या कुछ समय के लिए आप मोटिवेट नहीं होते हैं? मोटिवेट भी होते हैं और ये महसूस भी करते हैं कि जब ये लोग कर सकते हैं तो “मैं क्यों नहीं।” इस प्रकार आप अपनी इच्छा शक्ति बढ़ा सकते हैं।


9. Increase your limits | अपनी सीमाएं बढ़ाएं।

खुद को अपनी बनाई हुई उस सीमा, दायरे से बाहर निकालें जो आपको मनचाही चीजों को प्राप्त करने से रोकती हैं। जब भी कुछ बड़ा सोचना शुरू करते हैं तो आपकी limits, आपके पैरों को बेड़ियों में जकड़ लेती हैं। इस प्रकार आपकी इच्छा शक्ति कमजोर होने लगती है और आप अपनी जिंदगी की बुलंदियों को छू नहीं पाते हैं।

अपनी इच्छा शक्ति को विकसित करने और विस्तार करने के लिए धीरे – धीरे अपनी सीमाओं से बाहर निकलें। अपने “कम्फर्ट zone” को आज ही त्यागें। आप महसूस करेंगे कि आपकी will power धीरे – धीरे बढ़ने लगी है।


Will Power | इच्छा शक्ति | संकल्प शक्ति।

Some amazing examples of indomitable will power | अदम्य इच्छा शक्ति के कुछ अद्भुत उदाहरण।

1. दशरथ मांझी :- 

दशरथ मांझी, जिन्हें माउंटेनमैन के नाम से भी जाना जाता है। बिहार राज्य के गया के नजदीक गहलौर गांव के मजदूर थे। उन्होंने अपनी अदम्य इच्छा शक्ति से एक अविश्वसनीय काम को अंजाम दिया। एक हथौड़ा और छेनी से ही इन्होंने अकेले 360 फुट लंबी, 30 फुट चौड़ी और 25 फुट ऊंची पहाड़ को काट कर एक सड़क बना डाली। 22 वर्षों (1960 – 1982) के कठिन परिश्रम के बाद दशरथ मांझी ने 55 किमी की दूरी को 15 किमी बना दिया।

वे जिस गांव में रहते थे, वहां से पास के कस्बे में जाने के लिए पूरा पहाड़ (गहलौर पर्वत) पार करना या फिर उसका चक्कर लगाकर जाना पड़ता था। दशरथ मांझी की पत्नी का नाम फाल्गुनी देवी था। एक दिन वे पहाड़ी के दूसरे छोर पर लकड़ी काट रहे थे। उनकी पत्नी उनके लिए खाना ले जाते समय उस पहाड़ के दर्रे में गिर गई। वहां से शहर जाने के लिए बहुत समय लगता था। इस कारण वे अपनी पत्नी को दवा न दिला सके और उनकी पत्नी की वहीं मृत्यु हो गई। 

उसी दिन उन्होंने संकल्प लिया कि यहां से पहाड़ को काट कर एक रास्ता बनेगा जो उनके गांव से शहर की दूरी को कम करेगा। उन्होंने बताया, “जब मैंने पहाड़ी तोड़ना शुरू किया तो लोगों ने मुझे पागल कहा, लेकिन इसने मेरी इच्छा शक्ति को और मजबूत कर दिया।” मांझी के प्रयास का पहले तो मजाक उड़ाया गया लेकिन उनके इस परिश्रम ने गहलौर के लोगों का जीवन सरल बना दिया।


2. हेलेन केलर :-

हेलेन ऐडम्स केलर (27 जून 1880 – 1 जून 1968) का जन्म अमेरिका के टस्कम्बिया, अलबामा में हुआ था। वे एक लेखक, राजनीतिक कार्यकर्ता और आचार्य थीं। जन्म के समय हेलेन केलर एकदम स्वस्थ्य थीं। उन्नीस महीनों के बाद एक बीमारी के कारण उनकी नजर, जुबान और सुनने की शक्ति चली गई।

ऐनी सुलेवन ने हेलेन केलर को मैनुअल अल्फाबेट और ब्रेल लिपि आदि पद्धतियों से शिक्षित करना शुरू किया। उनके प्रशिक्षण में 6 वर्ष की उम्र से शुरू हुए 49 वर्षों के साथ हेलेन केलर सक्रियता और सफलता की ऊंचाइयों पर पहुंची। वह कला स्नातक की उपाधि हासिल करने वाली पहली बधिर और दृष्टिहीन थीं।

1902 में स्नातक की पढ़ाई करने के लिए हेलेन केलर ने रेडक्लिफ कॉलेज में दाखिला लिया। वहां पढ़ते – पढ़ते उन्हें लिखने का शौक जगा और उन्होंने लिखना शुरू किया। हेलेन केलर ने उस दौर में एक ऐसी पुस्तक लिखी जिसने उन्हें बहुत बड़ी उपलब्धि दिलाई। उस पुस्तक का नाम है, “द स्टोरी ऑफ माई लाइफ” जो हेलेन केलर की जिंदगी के बारे में है। 

उन्होंने अपनी जिंदगी में बहुत संघर्ष किया। अपने जीवन में उन्होंने संघर्षों के दौर को पार करके ये तो समझ लिया था। कि यदि आपकी इच्छा शक्ति मजबूत और दृढ़ संकल्प है तो जिंदगी में कोई भी कार्य असंभव नहीं है। इसी सोच के साथ हेलेन केलर ने समाज हित के लिए कदम बढ़ाया। और वे अपने जैसे लोगों को जागरूक करने के लिए निकल पड़ीं। 


निष्कर्ष – 

इस लेख का सार यह है कि यदि आपके अंदर दृढ़ इच्छाशक्ति है और इसके साथ आप जीवन में जो कुछ भी करना चाहते हैं, उसे हासिल कर सकते हैं। इसके लिए आपको हर समय मोटिवेट रहना होगा और उसे पाने के लिए संघर्ष करना होगा। 

दोस्तो इच्छा शक्ति के बारे में हमारा ये पोस्ट (Will Power | इच्छा शक्ति | संकल्प शक्ति।) आपको कैसा लगा? यदि आपको ये पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें।

धन्यवाद

7 thoughts on “Will Power | इच्छा शक्ति | संकल्प शक्ति।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.