Self esteem importance | self esteem means in hindi

Self esteem importance | self esteem means in hindi

Self esteem importance | self esteem means in hindi

सेल्फ एस्टीम या आत्म सम्मान क्यों जरूरी है एक सफल जीवन के लिए? क्या आपने कभी सोचा है कि आत्म सम्मान के बिना आपकी जिंदगी कुछ भी नहीं है। जब आप खुद की इज्जत करना सीख जायेंगे तब आपको ये अहसास होगा कि self esteem क्या है? तो हम इस आर्टिकल (self esteem importance | self esteem means in hindi) में ये सब जानेंगे।

जीवन में हम बहुत सारे काम करते हैं। दूसरे लोगों की नजर में अच्छे बने रहने के लिए उनका सम्मान भी करते हैं, जोकि एक अच्छी बात है। लेकिन उससे भी अच्छी बात यह है कि खुद का सम्मान करना भी बहुत आवश्यक है। यदि आप सफल होना चाहते हैं या सफल बने रहना चाहते हैं तो सेल्फ रेस्पेक्ट (Self respect) करना सीखें।

सेल्फ एस्टीम या आत्म सम्मान की इंपोर्टेंस को जानने से पहले हम self esteem means के बारे में जानेंगे।

Self esteem means in hindi | self esteem define :

Self esteem का हिंदी अनुवाद आत्म सम्मान या स्वाभिमान है। इसे हम self respect भी कहते हैं। खुद की इज्जत करना सफल जीवनरूपी ताले की वह चाबी है जिसका आपके पास रहना बहुत जरूरी है। इसे समझने के लिए हम एक छोटा सा उदाहरण लेते हैं।

हम सब घर में अच्छे – अच्छे फूल – पौधे लगाते हैं जोकि देखने में अच्छे लगें। जिनसे वातावरण भी शुद्ध रहता हो और पॉजिटिव एनर्जी मिलती हो। इन फूल पौधों को जिंदा रखने और बड़ा करने के लिए हम क्या करते हैं?

रोजाना उनमें पानी डालते हैं तथा उनमें घास – कूड़ा नहीं होने देते। समय – समय पर खाद भी लगाते हैं और जरूरत पड़ने पर कीटनाशक भी छिड़कते हैं। निराई और गुड़ाई भी करते हैं। और जब ये पौधे बड़े होने लगते हैं और फूल देने लगते हैं तो सुबह – शाम इन्हें निहारते हैं। फिर जो खुशी की अनुभूति होती है उसे वही व्यक्ति समझ सकता है जो उनकी अच्छे से देखभाल करता है।

जैसे ये खाद – पानी और अच्छी देखभाल उन फूल पौधों को अच्छा बनाने के लिए जरूरी है। ठीक वैसे ही सफल बनने के लिए आपको खुद में आत्म सम्मान जगाना होगा। खुद की इज्जत करना सीखिए तभी दूसरे लोग भी आपकी इज्जत करेंगे। सेल्फ रेस्पेक्ट की जिम्मेदारी आपकी है। यदि आप इसे समझ लेते हैं और खुद पर लागू कर लेते हैं तो आप सफल और इज्जतदार व्यक्तित्व बन सकते हैं।

यह भी पढ़ें :- व्यक्तित्व का विकास कैसे करें?

What is self respect | आत्म सम्मान क्या है?

हर आदमी हरेक काम नहीं कर सकता, इसलिए जिस भी क्षेत्र में हमारी रुचि है उस पर ध्यान देना चाहिए। उस क्षेत्र विशेष में ज्ञान बढाने का प्रयास करते रहना चाहिए। उससे जो गुण आपके अंदर विकसित होंगे वे आपको पहचान दिलाएंगे।

सेल्फ एस्टीम या सेल्फ रेस्पेक्ट ऐसी आत्म शक्ति है जो आत्म विस्मृति के गहरे अंधकार से बाहर निकलकर कुछ मूल्यों को अंगीकृत करती है। और वही मूल्य आचरण की सुगंध बन जाते हैं जो आपके चारों ओर वातावरण में विद्यमान रहती है। इसे दूसरे लोग पसंद करते हैं और आपका आदर – सत्कार करते हैं।

अपने आप को पहचानो और खुद से प्यार करो। जो कमियां आपके अंदर हैं उन्हें स्वीकार करो। इन्हें दूर किया जा सकता है। खुद के प्रति ईमानदार बनो। आपके अंदर जो कमियां और अच्छाइयां हैं वो सब आपकी हैं। जो अच्छाइयां हैं उन्हें आपने मेहनत करके कमाया है और जो कमियां हैं उनमें पूरा प्रयास नहीं किया। इसके लिए आप खुद जिम्मेदार हैं और दूसरा कोई जिम्मेदार नहीं है।

Self esteem importance | आत्म सम्मान का महत्त्व :

आत्म सम्मान का सीधा साधा मतलब है खुद से प्यार करना, खुद की केयर करना। कई बार लोग खुद के सम्मान को ईगो से जोड़ देते हैं जबकि दोनों का अर्थ भिन्न है। जहां सेल्फ रेस्पेक्ट एक सकारात्मक प्रभाव है वहीं ईगो नकारात्मक ऊर्जा को प्रसारित करता है। ऐसे में आत्म सम्मान (self esteem) का बड़ा ही महत्व है। क्योंकि जब आप ही खुद की इज्जत नहीं करोगे तो कोई भला दूसरा क्यों आपकी इज्जत करेगा।

  • जब आप सेल्फ रेस्पेक्ट नहीं करते तो निर्णय लेने की क्षमता में आपको कमी महसूस होगी। उस समय आपको सेल्फ एस्टीम का महत्त्व पता चलेगा।
  • आत्म सम्मान खुश रहने के लिए भी आवश्यक है इससे आपके रिश्ते बेहतर होते हैं।
  • जब एक कर्मचारी किसी बड़े अधिकारी या राजनेता के सामने सीधा खड़ा नहीं हो पाता है। वह इतनी जिहुजुरी करता है और उसके उसके सामने रिरियाता है तब उसे आत्म सम्मान की जरूरत है।
  • सही वक्त पर ना कहना भी उतना ही महत्त्वपूर्ण है जितना कि आप हर बार हां बोलते हैं। जहां हर किसी के सामने हां बोलने की जरूरत नहीं होती वहां भी आप आत्म सम्मान की कमी से हां बोलते हैं।
  • दूसरों की खुशियों में शामिल होना अच्छी बात है लेकिन किसी गलत बात के लिए अनजान बनकर शरीक होना आपके आत्म सम्मान की कमी को दर्शाता है।
  • अपना वजूद या अहमियत बरकरार रखने के लिए आत्म सम्मान बहुत जरूरी है। जब आप सेल्फ रिस्पेक्ट खो देते हैं तो आपके पार्टनर या सहकर्मी आपकी इज्जत नहीं करते। किसी भी निर्णय या सुझाव के लिए आपका होना या ना होना एक जैसा है क्योंकि उन्हें पता है कि वो जैसा कहेंगे आप उसे स्वीकार कर लेंगे।
  • आत्म-सम्मान खो जाने से आप अपने अंदर हीनभावना का अनुभव करेंगे। और खुद को दूसरों से कमतर समझेंगे इसलिए अपने आत्म सम्मान को खोने न दें।

How to build self esteem in yourself | अपने आप में आत्म सम्मान कैसे बढ़ाएं?

जैसा आप अभी तक जान चुके हैं कि सेल्फ एस्टीम के बिना सफल जीवन जी पाना मुश्किल है। इसलिए हमें खुद के अंदर आत्म सम्मान को जगाना होगा। आत्म सम्मान को बढ़ाने के लिए आगे कुछ बिंदुओं पर नजर डालते हैं –

1. अपने आप से प्यार करना है जरूरी :-

खुद से प्यार करना आपके अंदर आत्म सम्मान बढ़ाने में सहायक हो सकता है। जो व्यक्ति अपने आप से प्यार करना जानता है वही सच में दूसरों को भी प्यार कर सकता है। प्यार करने का मतलब खुद के अंदर सकारात्मक सोच को बढ़ावा देना है। खुद की कमियों छुपाना नहीं है बल्कि उनका विश्लेषण करना है और उनको सुधारना है।

2. हमेशा सकारात्मक सोचें | Be positive :-

सकारात्मक सोच हमें उन मुश्किलों से दूर रखती है जो नकारात्मक विचार से पैदा होती हैं। किसी भी क्षेत्र में जीत हासिल करने के लिए आपका दृढ़ संकल्प, मेहनत और सकारात्मक सोच का होना जरूरी है। इसलिए किसी भी काम को करने से पहले खुद को सकारात्मक रखें।

अधिकतर परिणाम हमारे चाहने और न चाहने के अनुसार निकलते हैं। जब आप सकारात्मक सोचेंगे तो परिणाम सकारात्मक और नकारात्मक सोचने से परिणाम भी नकारात्मक पैदा होंगे। जब आप सकारात्मक सोचते हैं तो परिणाम आपके अनुकूल निकलते हैं जिससे आपका आत्म सम्मान बढ़ता है।

3. ईमानदार बनें | Be honest.

अपने काम और खुद के प्रति ईमानदार बनें। जब आप अपना काम ईमानदारी से करते हैं तो उसमें आपका मन लगा रहता है। और आप अपने काम से बोर नहीं होंगे। ये छोटी – छोटी चीजें आपकी सफलता में सहायक बनती हैं। इसलिए ईमानदार बनें और अपना काम ईमानदारी से करें। ये आपके सेल्फ एस्टीम को बढ़ा सकता है।

4. छोटे – छोटे काम के लिए खुद को धन्यवाद करना न भूलें :-

आप जब भी कोई काम करते हैं तो खुद को धन्यवाद करना ना भूलें। जब आप खुद को धन्यवाद करते हैं तो उससे और काम करने के लिए मोटिवेशन मिलती है। और यही मोटिवेशन आपके अंदर सेल्फ कॉन्फिडेंस (self confidence) को बढ़ावा देती है। हर छोटे छोटे कदम पर खुद को धन्यवाद करने की यह आदत आपका आत्म सम्मान बढ़ाती है।

5. प्रत्येक कार्य को पूरे आत्म विश्वास के साथ करें :-

किसी भी कार्य को पूर्ण आत्म विश्वास के साथ करने पर सफलता के आसार बढ़ जाते हैं। यही सफलता हमें और अधिक तथा महत्त्वपूर्ण कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करती है। किसी कार्य में असफल होने पर भी हार न मानने के लिए आपका दृढ़ संकल्प और आत्म विश्वास बहुत जरूरी फैक्टर हैं। इस प्रकार आपका self confidence आपको आत्म सम्मान दिलाने में सहायक होता है।

दोस्तो आत्म सम्मान को बढ़ाने के लिए और भी फैक्टर्स हो सकते हैं। हमारे द्वारा उपलब्ध जानकारी आपके लिए कितनी महत्त्वपूर्ण है, हमें कमेंट्स में जरूर बताएं। Self esteem importance | self esteem means in hindi, बहुत ही महत्त्वपूर्ण विषय है। इसके बारे आप पढ़ें और अपने दोस्तों को भी शेयर करें।

—🙏 धन्यवाद 🙏—

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.