On the path of prosperity | समृद्धि की राह पर।

On the path of prosperity | समृद्धि की राह पर।

Prosperity

On the path of prosperity | समृद्धि की राह पर।

हम अपने आपको सुधारकर या व्यवस्थित करके समस्त अस्त – व्यस्तताओं को सुसंपन्नता और समृद्धि में परिवर्तित कर सकते हैं। शायद ही कोई व्यक्ति अपनी आर्थिक स्थिति से संतुष्ट मिलेगा। इसका कारण एक ही है कि धन के बारे में हमारा दृष्टिकोण अनात्मकारी बना हुआ है। यदि इस क्षेत्र में अध्यात्म सिद्धांतों का प्रवेश हो सके तो आज ही अर्थ संकट का हल निकल सकता है। और सर्वत्र सुसंपन्नता व समृद्धि का वातावरण उत्पन्न हो सकता है।

कौन से खर्च जीवनोत्कर्ष और कौन से विलासिता के लिए किए जा रहे हैं। यदि इसका परीक्षण उपयोगिता और अनुपयोगिता के अनुसार किया जाय तो यह निष्कर्ष निकलता है कि अधिकांश धन निरर्थक कार्यों में खर्च होता है। रोटी, कपड़ा, मकान और शिक्षा जैसी आवश्यक चीजों पर जितना व्यय होना चाहिए, उसकी जगह इनमें आडंबर और विलासिता जुड़ जाने से इनका खर्च कई गुना बढ़ गया है।

अध्यात्म का सिद्धांत है कि पैसे को लक्ष्मी का प्रतीक मानकर उसे केवल जीवनोत्कर्ष के कार्यों में ही खर्च किया जाना चाहिए। उपयोगी और उचित आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु धन आसानी से कमाया जा सकता है। दिक्कत और परेशानियां तो फिजूलखर्ची से बढ़ती हैं। इसकी रोकथाम तभी संभव है जब मनुष्य अपनी अर्थ – नीति को अध्यात्म तत्व – ज्ञान के अनुरूप निर्धारित करे और उस पथ का खुद अनुगमन करे।

अपनी हैसियत से ज्यादा खर्च करना (अपव्यय) एक ऐसी बुराई है जिसके कारण अनेकों दोष और दुर्गुण पैदा होते हैं। अधिकांश पाप प्रवृत्तियों का जन्म इसी अत्याचार के कारण होता है। यदि मनुष्य अपने खर्चों को सीमित रखें तो वह सुख और समृद्धि को प्राप्त कर सकता है। यदि हम अपनी नीति को ईमानदारी और सादगी भरा बनाने का प्रयत्न करें तो आर्थिक तंगी वाली जिंदगी का अनुभव ही नहीं होगा।

What is prosperity | क्या है समृद्धि?Prosperity

Wikipedia के अनुसार –

Prosperity संपन्न, सौभाग्य, समृद्ध और सफल सामाजिक स्थिति है। समृद्धि अक्सर अन्य कारकों सहित विपुल धन का उत्पादन करती है जो खुशी और स्वास्थ्य जैसे सभी क्षेत्रों में प्रचुर मात्रा में समृद्ध हो सकती है।

Meaning of Prosperity | समृद्धि का अर्थ।

धनी होना, समृद्ध और पूर्ण जीवन होने की अवस्था ही समृद्धि है। समृद्धि का एक उदाहरण एक ऐसा व्यक्ति है जो अपनी जरूरत के अनुसार सभी सुख – सम्पन्नता और धन के साथ पूर्ण जीवन जी रहा है। समृद्धि का अर्थ आमतौर पर उस प्रकार की success होती है जो बहुत सारा पैसा होने से होती है।

हमारा आधुनिक अंग्रेजी शब्द, मध्य अंग्रेजी शब्द ‘Prosperite’ से आया है, जिसे लैटिन में समृद्ध (prosperous) “favorable”  से फ्रेंच के माध्यम से लिया गया है। लैटिन शब्द का अर्थ “सौभाग्यशाली” भी होता है और समृद्धि शब्द का अर्थ सौभाग्य होता है।

“सच है, यह एक वंशानुगत सम्राट के बिना एक साम्राज्य है, जो शांति और समृद्धि के उच्च आदर्शों पर स्थापित है।”

– टाइम्स, सन्डे टाइम्स (2016)

सौभाग्य, धन, स्वास्थ्य और सफलता के साथ पूर्ण जीवन जीना ही समृद्धि है। कुछ भी अच्छा या वांछनीय, किसी भी व्यवसाय या उद्यम में सफल प्रगति, इच्छित वस्तु की प्राप्ति, सफलता के रूप में वाणिज्यिक समृद्धि या राष्ट्रीय समृद्धि आदि समृद्ध होने की स्थिति हैं।

“विशिष्ट गतिविधियों या विविधीकरण को आगे बढ़ाने में सफलता उन गतिविधियों के लिए लाई गई समृद्धि या गरीबी और पृष्ठभूमि कौशल की पिछली स्थितियों पर निर्भर हो सकती है।”

– कैम्ब्रिज इंगलिश कॉर्पस से

On the path of prosperity | समृद्धि की राह पर।

Lesson of evil | बुराई का सबक।

क्या कोई साधन नहीं है जिसके आधार पर बुराई के बंधन टूट सकते हैं? क्या सुख सुरक्षित समृद्धि और स्थाई शांति एक महत्त्वपूर्ण सपना है? नहीं, यह एक रास्ता है और मैं इसे खुशी के साथ बोलता हूं, जिसके द्वारा बुराई को हमेशा के लिए मार दिया जा सकता है। यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक स्थाई समृद्धि हासिल की जा सकती है।

एक अभ्यास के द्वारा आप अखंड शांति और prosperity को प्राप्त कर सकते हैं। इस शानदार अहसास की ओर जाने वाले रास्ते की शुरुआत बुराई की प्रकृति की सही समझ का अधिग्रहण है। बुराई को नजरअंदाज करना पर्याप्त नहीं है, इसे समझना होगा। बुराई को दूर करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना करना पर्याप्त नहीं है, पता लगाना होगा कि यह क्यों है और आपके लिए क्या सबक है।

आपको अनुभव के स्कूल में एक अवज्ञाकरी बच्चा बनना बंद करना चाहिए तथा विनम्रता और धैर्य के साथ सीखना शुरू करना चाहिए। ब्रह्मांड में कोई असीमित शक्ति या सिद्धांत नहीं है, बल्कि मानव अनुभव का एक महत्त्वपूर्ण चरण है, इसलिए यह उन लोगों के लिए शिक्षक बन जाता है जो सीखने के लिए तैयार हैं। बुराई कोई अमूर्त चीज नहीं है, यह आपके दिल में एक अनुभव है। सभी बुराई सुधारात्मक और उपचारात्मक हैं, इसलिए ये अस्थाई हैं।

जब तक हम अज्ञान की स्थिति में रहते हैं, हम बुराई के अधीन रहते हैं। बुराई अज्ञानता का प्रत्यक्ष परिणाम है, इसलिए जब बुराई का सबक पूरी तरह सीख जाते हैं, तब हो सकता है अज्ञानता दूर हो जाये। और ज्ञान अपना स्थान ग्रहण कर लेता है। मनुष्य खुद को एक अनुशासनात्मक प्रक्रिया द्वारा उस बुराई से मुक्त कर लेता है जो उसे घेर लेती हैं। उसको उस प्रक्रिया से गुजरने के लिए उत्सुक रहना होगा, जिसके बिना सुख, शांति और समृद्धि सुरक्षित नहीं रह सकते हैं।

Lord Buddha’s path to happiness and prosperity | भगवान बुद्ध का सुख – समृद्धि का मार्ग।Buddha on prosperity

अन्धकार जीवन की समस्या और प्रकाश उसका समाधान है, क्योंकि कोई कार्य तब तक कठिन है जब तक हम उसे सरल करने का साहस नहीं दिखाते। सफलता प्राप्त करने में आपको motivation और मेहनत दोनों की आवश्यकता होती है। भगवान बुद्ध ने बताया कि निष्पाप सेवा से मिलने वाला आंतरिक सुख, उत्तम व परम आनंद है।

मन, कर्म और वचन मनुष्य की नैतिकता के आधार हैं फिर भी उसके मन में अनेकों विकृतियां पनप जाती हैं। मनुष्य की जिंदगी में प्राय बहाना शब्द जुड़ा रहता है, जो कि उसके आर्थिक तंत्र को कमजोर कर देता है। आलस और बहानेबाजी को 6 प्रकार से वर्गीकृत कर सकते हैं –

  1. अभी बहुत सर्दी है, ये काम अभी नहीं हो सकता है।
  2. आज बहुत गर्मी है, ये काम अभी मुश्किल है।
  3. अभी रात हो चुकी है, सुबह देखा जाएगा।
  4. अब तो शाम हो गई और अंधेरा भी बढ़ता जा रहा है।
  5. अभी बहुत भूख लगी है, पहले खाना खाते हैं।
  6. अभी – अभी खाना खाया है, पहले आराम करते हैं।

भगवान बुद्ध अपने उपासकों को उपदेश देते हैं कि मन एक मात्र बर्तन समान है। यदि यह मन रूपी बर्तन अपवित्र है तो इसमें पैदा होने वाले thoughts भी अपवित्र होंगे। मलिन विचारो से जीवन में दुखों का आगमन इस प्रकार होता है जैसे बैलों के पैरों के पीछे – पीछे गाड़ी के पहिए।

कुशल कर्मों को करना, पापों से बचना और चित्त को नित्य संकल्पों से निर्मल और स्वच्छ करते रहना ही उनके उपदेश हैं। भगवान बुद्ध के उपदेशों का अनुशरण मात्र करने से ही विश्व में हिंसा, गरीबी, अत्याचार, भुखमरी और आतंक से त्रस्त मानव एवम् मानवता के अस्तित्व को बचाया जा सकता है। उनके उपदेश हर इंसान के जीवन में happiness और prosperity के द्वार खोल सकते हैं।

Yoga is the path to complete health and prosperity | योग है पूर्ण स्वास्थ्य और समृद्धि का मार्ग।

पतंजलि योगपीठ, हरिद्वार में पिछले वर्ष हुए विशाल कार्यक्रम में योगगुरु बाबा रामदेव ने बताया कि योग पूर्ण स्वास्थ्य, सामंजस्य, शांति और समृद्धि का मार्ग है। आप सभी योग पूर्वक कर्म करें और योग पूर्वक उद्योग करें। योग परस्परता में समग्रता, समष्टि का और सुख का सिद्धांत है। समस्त प्रकार की पूर्णता और समृद्धि का मार्ग है योग।

यह भी पढ़ें :- योग से मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनायें।

The path of prosperity | समृद्धि की राह।

दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शामिल जैक मा से किसी चीनी पत्रकार ने पूछा, समृद्धि प्राप्त करने का मूल मंत्र क्या है? जैक मा ने उस पत्रकार को बड़ा आसान सा जवाब दिया। Prosperity पाने के लिए अपनी ऊर्जा को बेहतर कार्यों में लगाना। उन्होंने उदाहरण देकर समझाया कि आप अपने बाथरूम में टपकते नल को घुमा – घुमाकर दस मिनट में बंद तो कर लोगे, लेकिन इसमें कितनी ऊर्जा व्यर्थ हो जाती है। अमीरी की राह कुछ और नहीं बल्कि रोजाना घंटो की व्यर्थ ऊर्जा को बचाने की कामयाबी है।

The world a reflex of mental states | संसार आपकी मानसिक अवस्थाओं का प्रतिफल है।

आप जो हो, वही आपका संसार है। ब्रह्मांड में सब कुछ आपके अपने आंतरिक अनुभव में हल हो चुका है। यह मायने नहीं रखता कि इसके बिना क्या है, क्योंकि यह सब आपकी अपनी चेतना की स्थिति का प्रतिबिंब है। आपके अंदर क्या चल रहा है, वह मायने रखता है। आपके अपने thoughts, इच्छाओं और आकांक्षाओं में आपकी दुनिया और आप सभी शामिल हैं।

आप अपने विचारों से अपनी दुनिया, अपना जीवन और अपना ब्रह्मांड बनाते हैं। जैसा आप अपने विचारों की शक्ति से अपने अंदर निर्मित करते हैं, वैसा ही आपके बाह्य जीवन और परिस्थितियां आकार ले लेती हैं। वह आत्मा जो शुद्ध, निःस्वार्थ और महान है, वह सुख और समृद्धि की ओर समान परिशुद्धता से आकर्षित होती है। इसे महसूस करना ईश्वरीय कानून की सार्वभौमिकता को पहचानना है।

प्रत्येक आत्मा एक जटिल संयोजन है, जो अनुभवों और विचारों को इकट्ठा करता है।

“हम जो कुछ भी सोचते हैं उसका परिणाम होता है। यह हमारे विचारों पर स्थापित होता है। यह हमारे विचारों से बनता है।”

– भगवान बुद्ध

यदि कोई खुश है तो इसलिए क्योंकि वह अपने विचारों में खुश रहता है और कोई दुखी है तो वह नीच और दुर्भावना पूर्ण विचारों में रहता है। मेरे कहने का मतलब ये बिल्कुल भी नहीं है कि बाहरी परिस्थितियां हमारे दिमाग को प्रभावित नहीं करती हैं। परिस्थितियां तब तक ही प्रभावित हो सकती हैं जब आप उन्हें ऐसा करने की अनुमति देते हैं।

आप विश्वास करते हैं कि बाहर की चीजें आपके जीवन को बनाने और उजाड़ने की शक्ति रखती हैं। आप ऐसा करके उन बाहरी चीजों को प्रस्तुत करते हैं और यह कबूल करते हैं कि आप उनके दास हैं और वे आपके मालिक हैं। अच्छा सोचें और सकारात्मक सोच रखें। जब आप यह महसूस करना शुरू करते हैं तो आप अपने विचारों को नियंत्रित और अनुशासित करते हैं।

The silent power of thoughts | विचारों की मूक शक्ति।

ब्रह्मांड में सबसे शक्तिशाली बल मूक बल है। अपनी शक्ति की तीव्रता के अनुसार यह लाभकारी बन जाता है यदि इसे सही तरीके से निर्देशित किया जाए। और यदि इसे गलत तरीके से निर्देशित किया जाए तो बहुत ही विनाशकारी। यह यांत्रिकी ताकतों जैसे भाप, बिजली आदि के संबंध में सामान्य ज्ञान है।

मानसिक रूप से इनकार करने के लिए बुराई पर्याप्त नहीं है। यह दैनिक अभ्यास से, ऊपर उठना और समझा जाना चाहिए। आत्म नियंत्रण का बुद्धिमान अभ्यास जल्दी से किसी के आंतरिक विचार बलों के ज्ञान की ओर जाता है। और बाद में उस शक्ति के अधिग्रहण के लिए, जिसके द्वारा वे सही तरीके से नियोजित और निर्देशित होते हैं।

विश्वास और उद्देश्य जीवन की मकसद शक्ति का निर्माण करते हैं। ऐसा कुछ नहीं है जो एक मजबूत विश्वास और एक अधूरा उद्देश्य पूरा न हो। मौन विश्वास के दैनिक अभ्यास द्वारा विचार – बलों को एक साथ इकट्ठा किया जाता है। और मौन उद्देश्य के दैनिक सुदृढ़ीकरण द्वारा उन बलों को सिद्धि की वस्तु की ओर निर्देशित किया जाता है।

मानसिक अनुशासन के द्वारा बिखरे हुए विचार – ताकतों को फिर से एकजुट किया जाता है, और निर्देशित किया जाता है। मन और मस्तिष्क के बीच और विचार – बलों के एक निरंतर आदान – प्रदान के बीच निरंतर पारस्परिकता है। अच्छे विचार सोचें। वे जल्द ही आपके भौतिक जीवन में अच्छी परिस्थितियों के रूप में वास्तविक बन जाएंगे। अपनी आत्म – शक्तियों को नियंत्रित करें। आप अपने बाहरी जीवन को अपनी इच्छानुसार आकार देने में सक्षम होंगे।

यह भी पढ़ें :- विचार प्रक्रिया ही है सब कुछ।

The realization of prosperity | समृद्धि की प्राप्ति।

ब्रह्मांड में आसन्न ईश्वरीय शक्ति पर विश्वास करें। यह आपको कभी भी उजड़ने नहीं देगी और आप हमेशा सुरक्षित रहेंगे। इस तरह के विश्वास से आपके सभी नुकसान लाभ में परिवर्तित हो जाएंगे। और जो नकारात्मक व शापित चीजें हैं उन्हें आशीर्वाद में स्थानांतरित कर दिया जाएगा। कभी भी सत्यनिष्ठा, उदारता और प्रेम को न जाने दें, क्योंकि ये ऊर्जा के साथ मिलकर आपको वास्तव में समृद्ध राज्य में बदल देंगे।

अपनी आत्मा का विस्तार करें, अपने दिल को प्यार और उदारता से दूसरों तक पहुंचने दें। इससे आपको सुख और समृद्धि मिलेगी तथा  स्थाई रूप से आपको आनंद मिलेगा। जो लोग धार्मिकता के राजमार्ग से भटक गए हैं, वे खुद को जिंदगी में सफल होने की प्रतिस्पर्धा से बचाते हैं। हमेशा सही मार्ग पर चलें और चलते रहें। आप सुख – समृद्धि और सम्पन्नता को प्राप्त कर लेंगे।

नमस्कार दोस्तों,

समृद्धि (prosperity) के बारे में हमारा ये (On the path of prosperity | समृद्धि की राह पर।) लेख आपको अच्छा लगा होगा। मुझे उम्मीद है कि यह आपके जीवन में सुख – शांति और समृद्धि लाने में मददगार साबित हो सकता है। आप इसे अपने दोस्तों को भी शेयर करें।

धन्यवाद

3 thoughts on “On the path of prosperity | समृद्धि की राह पर।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *