How to focus on your goal | अपने लक्ष्य पर ध्यान कैसे केंद्रित करें?

How to focus on your goal | अपने लक्ष्य पर ध्यान कैसे केंद्रित करें?

"How

जीवन के सफर में हमेशा आगे बढ़ने के लिए आपको छोटे – छोटे goal (लक्ष्य) बनाने होंगे। और इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपको इस पर फोकस करना होगा। यदि आप चाहते हैं कि आपने जो गोल सेटिंग किया है, उसे हासिल करें तो एक बार में एक ही गोल पर फोकस करें। आज हम, How to focus on your goal | अपने लक्ष्य पर ध्यान कैसे केंद्रित करें? इस बारे में विस्तृत रूप से पढ़ेंगे।

देखिए परमात्मा ने हर जीव को असीमित शक्तियां प्रदान की हैं। और हर कोई इन शक्तियों का इस्तेमाल अपने गोल को हासिल करने के लिए फोकस के रूप में करता है। जो सही तरीके से अपनी फोकस पॉवर का इस्तेमाल करना जानता है वह जीत के उतने ही करीब होता है। चाहे वो कोई जीव हो या इंसान।

आओ इसे एक कहानी से समझते हैं। जब शेर शिकार करने के लिए निकलता है तो वह उन जानवरों की भीड़ में से किसी एक को ही चुनता है। और अपना पूरा फोकस उस पर लगाता है। फिर क्या पूरी जान लगा देता है वो उसे मारने के लिए। और वो इसमें अधिकतर सफल होता है। यदि वो एक समय में एक से अधिक जानवरों को अपना लक्ष्य बनाए तो क्या होगा? आप खुद समझ गए होंगे, कि उसे कुछ भी हासिल नहीं होगा।

Definition of Focus in Hindi | focus definition | फोकस क्या है?

यहां हम फोकस को समझने का आसान तरीका लेते हैं। आप सब ने वो लेंस तो देखा होगा जिसे बचपन में या स्कूल के समय में इस्तेमाल किया करते थे। सूरज की किरणों के सामने उस लेंस के आगे कागज के फटे हुए टुकड़ों को रखते थे। थोड़ी देर तक एक ही जगह पर लेंस को पकड़े रहने से वो कागज के टुकड़े जलना शुरू हो गए। ये सब कैसे हुआ? बिना आग लगाए ये कागज के टुकड़े कैसे जलने लगें?

तो आओ इसे समझते हैं। जब हम लेंस को कागज के टुकड़े पर फोकस करते हैं तो लेंस पर पड़ने वाली सभी सूर्य की किरणें एक निश्चित बिंदु पर एकत्रित होती हैं। इस निश्चित बिंदु को focus point कहते हैं। यह लेंस की विशेषता है जिससे सभी एकत्रित हुए किरणें एक प्रकाश पुंज बनाती हैं। जहां पर इनका एनर्जी लेवल कई गुना बढ़ जाता है जिससे कागज के टुकड़े जलना शुरू हो जाते हैं।

तो दोस्तो आप समझ गए होंगे कि power of focus क्या है? जब आप अपना फोकस किसी एक चीज पर लगाएंगे तो उसे हासिल करने में सफल जरूर होंगे। अब आप अपने गोल को पाना चाहते हैं तो फोकस एक ही चीज पर लगाएं जिससे कि उसे पाने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। जब आप इसे हासिल करलें तो इसी प्रकार अगले गोल के लिए फोकस बनाएं।

Firstly decide what to do | पहले तय करें कि क्या करना है?

क्या आपके साथ भी ऐसा हुआ है कि बहुत सारे काम होने की वजह से आप कन्फ्यूज्ड होते हैं। शायद हम सभी को इस रास्ते से गुजरना पड़ता है। यही नहीं समझ आता कि कौन सा काम करें।

आपको लगता होगा कि बहुत सारे काम करके आप प्रोडक्टिव बन जायेंगे लेकिन ऐसा नहीं है। ऐसा करने से आप और जल्दी थक जायेंगे।

इससे निजात पाने के लिए आपको इन कामों को categorized करना होगा। इसके बाद जो काम बच जाते हैं उन्हें छोड़ दो।

अब जिन कार्यों पर आप फोकस करना चाहते हैं उन्हें भी क्रम से लगाएं। जिन कैटेगरी में आपकी रुचि है उन्हें अपनी टू डू लिस्ट में सबसे ऊपर रखें।

इसे भी पढ़ें : लक्ष्य | goal के बारे में।

अब इनमें से आप दो गोलों को चुनें जिनमें एक आपका मैन गोल और दूसरा पर्सनल गोल हो। अब अपने इन्हीं दो गोल पर फोकस बनाएं और शुरू हो जाएं।

How to improve focus power | फोकस पॉवर को कैसे इम्प्रूव करें?

जब भी हम अपने काम पर ध्यान लगाने की कोशिश करते हैं तो मन में बहुत सारे विचार आने लगते हैं। हम डिस्ट्रैक्ट होने लगते हैं। इन सब को दूर करने और अपनी फोकस पॉवर को बढ़ाने के लिए आपको कुछ एक कार्यों पर ध्यान देना होगा।

  • Create to do list | टू डू लिस्ट बनाएं।

सबसे पहले आप अपनी टू डू लिस्ट तैयार करें। ये वो लिस्ट है जो आपको समय – समय पर याद दिलाती रहेगी कि आज और भविष्य में आपको क्या – क्या करना है। इसमें उन सभी कार्यों को क्रम वाइज नोट डाउन करें।

अब इस लिस्ट को ऐसी जगह चिपकाएं जहां ये आपको रोजाना दिखाई दे। फ्रिज, बेडरूम और ऑफिस टेबल जैसी जगह पर इस लिस्ट को लगाएं। जब भी आपकी नजर इस टू डू लिस्ट पर पड़ेगी तो ये आपके लिए एक reminder का काम करेगी। जिससे आपको अपने कार्यों का ध्यान रहेगा और आप उन पर अच्छे से फोकस कर सकते हैं।

इस लिस्ट में से उन टास्क का नाम हटा दें जो कि सिर्फ कैलेंडर में जगह को घेरते हैं। यानी आपके दो या तीन मुख्य कार्यों के अलावा सभी कार्यों को अपनी टू डू लिस्ट में से रिमूव कर दें। इस प्रकार आपकी टू डू लिस्ट आपके फोकस पॉवर को इंप्रूव करने में बहुत ही प्रभावी साबित होगी।

  • Focus in yourself | अपने आप में ध्यान केंद्रित करें।

जब आप कोई काम करने लग जाते हैं तो उसमें मन नहीं लगता है। या फिर बहुत सारे कामों को देखकर आपका दिमाग काम नहीं करता कि क्या करें, क्या न करें? इस हालात में आपको खुद पर फोकस करने की जरूरत है। जैसे ही आप खुद पर फोकस करने लग जाते हैं तो आपको यह अहसास होता है कि हां ये काम तो मैं कर सकता हूं। मुझे ये काम जरूर करना चाहिए।

ये सब कैसे संभव होने लगा अब आपको रियलाइज होने लगेगा। तो बात ऐसी है जब आप खुद पर ध्यान लगाना शुरू करते हैं तब आपके मन में बहुत से विचारों का जन्म होता है। इसे ध्यान लगाकर देखें और इसे होने दें। आपको कहीं न कहीं एक ऐसा आइडिया मिलेगा जो बहुत ही जबरदस्त होगा। एक ऐसा एक्शन जिससे unlimited possibilities मिल सकती हैं। यानी अनलिमिटेड अर्निंग की संभावना।

खुद पर ध्यान लगाने से आपका विश्वास बढ़ने लगता है। और विश्वास वो शक्ति है जो कि असंभव को भी संभव बना सकती है। इस विश्वास को बढ़ाने के लिए आपको खुद पर, अपनी अंतरात्मा पर ध्यान बनाए रखना होगा।

  • Meditation improves focus power | मेडिटेशन करने से फोकस पॉवर इंप्रूव होती है।

मेडिटेशन एक ऐसी क्रिया है जिससे मन को शांत किया जाता है। जब आप ध्यान लगाना शुरू करते हो तो अपनी आंतरिक शक्तियों से परिचित होने लगते हैं। लगातार और नियमित रूप से मेडिटेशन करने से आप अपनी इंद्रियों को वश में कर सकते हैं।

Read it : ध्यान कैसे करें | How to do meditation?

इससे आपका मन एकाग्रचित होकर शांत हो जाता है। जब आप अपने मन को एकाग्रचित कर लेते हैं तो ये आपकी फोकस पॉवर को भी इंप्रूव करता है। आप किसी particular चीज पर फोकस कर सकते हैं। इससे आपके लक्ष्य को हासिल करने की उम्मीद बढ़ जाती है।

How to be Focused on goals | अपने गोल्स पर कैसे केंद्रित रहें?

How to be Focused on goals | अपने गोल्स पर कैसे केंद्रित रहें?
How to be Focused on goals | अपने गोल्स पर कैसे केंद्रित रहें?

बहुत सारे गोल्स को लेकर आप ये नहीं डिसाइड कर पाते कि आपको क्या करना चाहिए। या फिर आप ये सोच – सोच कर अपना कीमती समय बर्बाद कर रहे हैं कि कैसे अपने गोल्स पर केंद्रित रहें? तो आपको इन गोल्स को ऑर्गेनाइज करने की जरूरत है। आप ठंडे दिमाग से ये सोचें और फिर डिसाइड करें कि क्या बहुत सारे गोल्स आपके लिए जरूरी हैं।

आप पाएंगे कि इनमें से कई तो ऐसे हैं जो कि आपको सिर्फ परेशान कर रहे हैं, किसी काम के नहीं हैं। यदि आप एंबिशियस हैं तो आपको ऑर्गेनाइज्ड होने की जरूरत है। नहीं तो आप कुछ भी नहीं कर पायेंगे। सबसे पहले आपको उन category के बारे में decide करना है जिन पर आपने फोकस करना है।

फिर एक  ऐसी लिस्ट बनाएं जिसमें आपके गोल्स और उन्हें कैसे व कब तक हासिल करना चाहते हैं। ये सब लिखा हुआ होना चाहिए। ऐसा करने से आपका टाइम वेस्ट नहीं होगा। आप अपने गोल के लिए फोकस्ड रहेंगे और कोई डर या घबराहट भी नहीं होगी। आप पूरे दिन जोश से भरे रहेंगे और किसी भी प्रकार की थकान महसूस नहीं करेंगे।

Remove unnecessary things from your to do list | फालतू चीजों को अपनी टू डू लिस्ट से हटाएं।

अब समय आता है कि ऐसे टास्क जिन्हें आप बाद में करना चाहते हैं। दो या तीन दिन बाद या दिन भर में जब खाली समय मिले तब उसे कर सकते हैं। ट्रिक ये है कि किसी भी टास्क को आप दो या तीन दिन से ज्यादा टू डू लिस्ट में नहीं रखें।

अधूरे टास्क की वजह से आप खुद को काम के बोझ तले दबा हुआ महसूस कर सकते हैं। आप अपने गोल से भटक सकते हैं या फिर आपके व्यवहार में कुछ बदलाव आ सकता है। इसलिए एक या दो गोल सेट करें और उन्हें पूरा करने के बाद ही अगला गोल निर्धारित करें।

Stay positive | सकारात्मक रहें।

मानसिक शक्तियां बहुत ही शक्तिशाली होती हैं। इनके द्वारा आप कोई सा भी कार्य कर सकते हैं। अब बात आती है कि आप इन शक्तियों का इस्तेमाल positive way में करना चाहते हैं या फिर negative दिशा में।

सकारात्मक रहकर आप अपने जीवन में बड़ी से बड़ी मुश्किलों का सामना कर सकते हैं। लेकिन यदि नकारात्मक सोच आप पर हावी है तो आप कुछ नहीं कर सकते सिवाय खुद को बर्बाद करने के। इसलिए हमेशा सकारात्मक सोच (positive thinking) बनाए रखें।

Creating a daily routine | अपना डेली रूटीन बनाएं।

सामान्यतः सब लोगों की ये शिकायत रहती है कि उनके पास समय की कमी है। क्या आपको एक ही दिन में सब कुछ करने का समय मिल जाता है। बेशक नहीं। यहां हम बात कर रहे हैं कि कैसे अपने गोल्स पर फोकस बनाएं रखें।

इसे भी पढ़ें : Daily routine in Hindi | दैनिक दिनचर्या।

आपको अपना डेली रूटीन तैयार करना है। अपनी टू डू लिस्ट में ऐसे कैटेगरी को शामिल करना है जो आपके जॉब या काम से संबंधित है। इसमें एक या दो कैटेगरी को ही जोड़ें। एक ऑर्गेनाइज्ड लिस्ट रखने से टाइम की कमी इतनी आसानी से हल नहीं हो जायेगी। हां इतना जरूर है आप इस प्रकार से अपने दिन का हर पल यूटिलाइज कर सकते हैं।

यहां एक बड़ा सवाल यह है कि आप इतने सारे डिस्ट्रैक्शन के बाद भी अपने लक्ष्य पर कैसे केंद्रित रहते हैं। जवाब बहुत ही सिंपल है आपको एक ऐसी स्ट्रेटजी तैयार करनी है जो इसे आसान बना देता है।

Apply eighteen minutes strategy | अट्ठारह मिनट वाली स्ट्रेटजी अपनाएं।

18 मिनट स्ट्रेटजी के लिए आपको एक रूटीन बनाना होगा। सबसे पहले हर रोज सुबह अपनी टू डू लिस्ट की प्लानिंग के लिए पांच मिनट दें। याद रखिए आपको अपनी लिस्ट में वही काम लिखने हैं जो आपकी कैटेगरी में फिट बैठते हैं।

इसके बाद आपको हर घंटे एक मिनट के लिए अपनी प्रोडक्टिविटी चेक करनी है। अपनी प्रोडक्टिविटी को इंप्रूव करने के नए तरीके तलाशने हैं। और अंत में, रोजाना दिन के आखिर में पांच मिनट ये विश्लेषण करना है, कि आज आपका दिन कैसा गुजरा? आप खुद से यह सवाल कर सकते हैं कि और इंप्रूवमेंट कैसे हो सकती है।

अपनी लाइफ को बदलने के लिए आपको इन चार एलिमेंट्स पर फोकस करना चाहिए। आपकी ताकत, कमजोरी, डिफरेंसेज और पैशन। यदि आप extraordinary और सक्सेस बनना चाहते हैं तो अपने गोल को रिचुअल बनाएं। 18 मिनट रिचुअल को अपने जीवन में उतारें और देखें आपकी लाइफ कैसे बेहतर होने लगती है।

दोस्तो,

उम्मीद है कि आपको फोकस के बारे में हमारा ये लेख (How to focus on your goal | अपने लक्ष्य पर ध्यान कैसे केंद्रित करें?) जरूर पसंद आया होगा। आपकी क्या राय है या suggetion हैं इस बारे में हमें कमेंट करके जरूर बताएं। आपके कॉमेंट्स हमारे लिए बहुत महत्त्वपूर्ण हैं। यदि आपको य लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें।

—🙏 धन्यवाद 🙏—

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.