मानसिक रोग या विकार: लक्षण, कारण और उपचार।

मानसिक रोग या विकार: लक्षण, कारण और उपचार।

This image showing very depressed.

This image is showing to mental illness disease.मानसिक रोग या विकार: लक्षण, कारण और उपचार।

नमस्कार दोस्तो, अपने इस लेख (This image is showing to mental illness disease.मानसिक रोग या विकार: लक्षण, कारण और उपचार।) के जरिए हम आपको मानसिक रोग और उसके लक्षण, कारण तथा उपचार के बारे में जानकारी देने वाले हैं। अधिकतर लोग मानसिक रूप से विचलित रहते हैं, लेकिन वो इससे उभर नहीं पाते। ऐसे मानसिक रोगी या तो रोग की पहचान नहीं कर पाते हैं या फिर उसे रोग ही नहीं समझते हैं।

मानसिक रोग क्या है? | What is mental illness?

मानसिक रोग को मनोरोग, मनोविकार या मानसिक विकार भी कहते हैं। इस बीमारी से व्यक्ति की मनोदशा, यादाश्त, सोच और व्यवहार पर प्रभाव पड़ता है। आपके दैनिक जीवन में बहुत सी समस्याएं उत्पन्न होती हैं। अधिकतर समस्याओं का समाधान आप अपने अनुभव एवम्  अपनी मानसिक क्षमता के अनुसार निकाल लेते हैं, लेकिन ऐसी बहुत सी समस्याएं रहती हैं जिन्हें आप अपने अंदर दबाए रखते हैं।

इस प्रकार कुछ समयोपरांत्त ये विकराल रूप धारण कर लेती हैं और ये मानसिक रोग में परिवर्तित हो जाती हैं। जब ये आपके ऊपर पूरी तरह से हावी हो जाती हैं, तब आपकी कार्यक्षमता में कमी आ जाती है।

लोगों की नजर में मानसिक रोग एक मन का वहम है या फिर अंधविश्वास है, जिसके लिए किसी प्रकार के उपचार की आवश्यकता नहीं है। मानसिक रोग को लेकर लोगों में कई तरह की गलत धारणाएं हैं। जिसके कारण लोग चाहकर भी इस विषय पर खुल कर बात भी नहीं कर पाते हैं। जिसका खामियाजा मानसिक रोगी को भरना पड़ता है।

मनोरोग भी शारीरिक रोग की तरह ही समय के साथ गंभीर रूप धारण कर लेते हैं। ऐसी स्थिति में आवश्यकता है उन लोगों की मानसिकता और गलत धारणाओं को बदलने की। जो कि यह सोचते हैं कि मानसिक रोग एक रोग नहीं है, अपितु यह तो मन का बहम है या अंधविश्वास है।

अगर आप भी मानसिक विकार के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा अवश्य पढ़ें, जिससे कि आप इस बीमारी के बारे में विस्तृत रूप से जानें एवम् इसके लक्षणों और कारणों को अच्छे से पहचानकर सही समय पर उपचार करा सकें।

मानसिक रोग के प्रकार | Types of mental illness.

मानसिक रोग मुख्यतः छह प्रकार के होते हैं :-

1. अवसाद या बाईपोलर डिसऑर्डर

बाइपोलर डिसऑर्डर को गहरा अवसाद (Manic depression) भी कहते हैं। इसमें भावोत्तेजना का उच्च स्तर तथा निम्न स्तर शामिल रहता है।

2. भूलने की बीमारी | Alzheimer’s

आप सभी लोगों के लिए सभी बातें याद रखना बहुत ही कठिन कार्य होता है। यह एक सामान्य क्रिया है क्योंकि कुछ चीजें भूलने लायक होती हैं। लेकिन कुछ व्यक्तियों में देखा गया है कि कुछ समय पहले हुई क्रिया को भूल जाते हैं। वास्तव में यह एक मानसिक रोग है, जिसे हम भूलने की बीमारी या अल्जाइमर भी कहते हैं।

3. मनोभ्रंश | Dementia

सामान्य रूप से मानसिक क्षमता में आई हुई कमी को ही मनोभ्रंश कहते हैं। इसमें आपके सोचने की क्षमता कम हो जाती है, जिससे दैनिक जीवन पर काफी प्रभाव पड़ता है।

डिमेंशिया प्रतिदिन करने वाली गतिविधियों को पूरा करने की शक्ति को कम कर देता है। जैसेकि घर के काम – काज, ड्राइविंग, स्नान करना, कपड़े पहनना और खाना खाने की क्रिया भी सम्मिलित है। उम्र के साथ – साथ इस रोग से पीड़ित होने की संभावना बढ़ जाती है।

4. पार्किसन रोग | Parkinson’s disease

पार्किसन रोग तंत्रिका तंत्र में तेजी से फैलने वाला एक प्रकार का रोग है जो आपकी दैनिक गतिविधियों को प्रभावित करता है। यह विकार कभी – कभी केवल आपके एक हाथ में होने वाले कम्पन के साथ शुरू होता है। इस बीमारी से पीड़ित को एक हाथ से पानी का गिलास या चाय का कप उठाना मुश्किल होता है।

5. ध्यानाभाव एवम् अतिसक्रियता विकार | Attention-deficit/hyperactivity disorder

यह बच्चों को होने वाला सबसे अधिक सामान्य मानसिक रोग है। ए डी एच डी (ADHD) बच्चों और किशोरों को प्रभावित करता है। तथा यह रोग इनकी वयस्कता तक रह सकता है।

ADHD बच्चों के व्यवहार में अतिशीघ्रता पैदा कर सकता है। इसमें कई समस्याओं का समूह होता है जैसे कि ध्यान बनाए रखने में कठिनाई एवम् सक्रियता आदि। सामान्यतः ए डी एच डी को ध्यान न दे पाने वाला रोग कहा जाता है।

6. भय | Phobia

फोबिया एक ऐसी बीमारी है जिसे डर या भय भी कहते हैं। यदि आपको फोबिया है तो आपको अपनी बीमारी के कारण डर या आतंक की भावना महसूस हो सकती है। जहां एक ओर भय एक सामान्य चीज होती है जो कि समय के साथ स्वयं ठीक हो जाती है। वहीं फोबिया को एक गंभीर बीमारी के रूप में देखा जाता है जिसके लिए उपचार की आवश्यकता होती है।

मानसिक रोग के लक्षण | Symptoms of mental illness.

इस रोग के अपने अलग लक्षण होते हैं। यह विकार किसी को भी हो सकता है। मानसिक रोग के लक्षण व्यक्ति की भावनाओं, विचार और व्यवहार को प्रभावित करते हैैं। यदि ऐसे लक्षण किसी व्यक्ति में दिखाई दें तो आप उससे बात करें और उसे तुरंत डॉक्टर का परामर्श लेने की सलाह दें।

मानसिक रोग के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं:-

असामान्य बर्ताव | Unusual behavior.

कुछ लोग किसी बात को लेकर अचानक से गुस्सा या बहुत जोर से हंसने लग जाते हैं। इस प्रकार का व्यवहार मानसिक रोग का संकेत हो सकता है। ऐसे में व्यक्ति को मनोचिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

दोस्तों व परिवार से अलग रहना

यदि कोई व्यक्ति अपने दोस्तों एवम् परिवार से अलग सा रहने लगता है तो हो सकता है उसमें मानसिक रोग के लक्षण हों। ऐसे व्यक्ति को बिना देर किए मनोचिकित्सक से मिलना चाहिए।

ध्यान केंद्रित करने की क्षमता में कमी | Loss of focus.

मानसिक रोग वाले व्यक्तियों की मनोदशा और व्यवहार में बदलाव आ जाता है। इसलिए किसी भी कार्य को करने में ध्यान पूरी तरह केंद्रित नहीं हो पाता है और वह कार्य पूरा नहीं हो पाता है।

उदास रहना | Stay sad.

मानसिक रोगी की प्राथमिक पहचान उदास रहना है। यदि आपकी जान – पहचान में कोई व्यक्ति इस प्रकार के लक्षण से ग्रसित दिखाई दे तो उससे बात करने की कोशिश करें। हो सकता है वह व्यक्ति मानसिक विकार से ग्रसित हो।

मूड का बार – बार बदलना | Changing mood.

स्त्रियों में यह समस्या मासिक धर्म के समय और गर्भावस्था में होती है जोकि स्वाभाविक है। और यह कुछ  समयोपरांत्त्त स्वतः ही ठीक हो जाता है। लेकिन यह समस्या बार – बार होने लगे तो पीड़ित को मनोरोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए।

अत्यधिक घबराहट और भय महसूस करना | Feeling nervous and afraid.

सामान्यतः लोगों में देेेखा गया है कि वे अपने सामने वाले व्यक्ति के समक्ष बात नहीं रख पाते हैं। यदि ये समस्या कुछ समय बाद ठीक नहीं होती है, तो ये मनोविकार हो सकता है। जिसके लिए मनोचिकित्सक से मिलना आवश्यक है।

दैनिक समस्याओं से निजात पाने में असमर्थ | Unable to get rid of daily problems.

एक व्यक्ति को अपने जीवन में अनेकों प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कभी – कभी आपके सामने ऐसी समस्याओं का पहाड़ टूट पड़ता है कि आप ये नहीं समझ पाते या निर्णय ले पाते कि इसका निवारण कैसे किया जाए। और आप इसमें असमर्थ हो जाते हैं। यह भी मनोविकार का संकेत हो सकता है।

आत्मघाती सोच | Suicidal thinking.

बहुत से लोगों के जीवन में ऐसी – ऐसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं जिनके बारे में न तो वे किसी से विचार – विमर्श कर पाते हैं और न ही उनका समाधान निकाल पाते हैं। इस प्रकार उन लोगों की सोच आत्मघाती हो जाती है और कई बार तो ऐसे व्यक्ति अपनी जान तक गंवा देते हैं।

मानसिक रोग के कारण | Causes of mental illness.

मानसिक रोग का कोई सटीक कारण बता पाना तो थोड़ा कठिन है लेकिन मनोरोगियों पर किए गए काफी अध्ययनों से पुष्टि हुई है कि मानसिक रोग विभिन्न पर्यावरणीय कारकों एवम् अनुवांशिक कारणों से हो सकते हैं।

अनुवांशिकता | Heredity-

मानसिक रोग सामान्यतः उन लोगों में भी पाया जाता है जिनके रिश्तेदारों या घर – परिवार में किसी को ये बीमारी होती है। मानसिक रोग के विस्तृतिकरण में अनुवांशिकता भी एक कारण हो सकता है।

सिर पर चोट लगना | Head injury-

किसी भी व्यक्ति के सिर पर चोट लगने से भी मानसिक रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए क्रिकेट खेलते समय या दोपहिया वाहन चलाते समय सिर पर हेलमेट पहनने की सलाह दी जाती है। क्योंकि इनमें सिर पर चोट लगने की संभावना बहुत ज्यादा रहती है।

पारिवारिक वातावरण ठीक न होना | Deteriorating family environment –

ऐसा माना जाता है कि पारिवारिक वातावरण ही एक बच्चे के संस्कार और मनोदशा की नींव होती है। और यदि किसी घर में प्रतिदिन लड़ाई – झगड़े का माहौल रहता है तो इससे उस घर के बच्चों पर गलत प्रभाव पड़ता है। जिससे कि मानसिक रोग होने की संभावना बढ़ जाती है।

मस्तिष्क की कार्यप्रणाली का ठीक ना होना |  Dysfunction of the brain –

न्यूरोट्रांसमीटर स्वाभाविक रूप से व्यक्ति के मस्तिष्क के रसायनों को सामान्यतः आपके मस्तिष्क एवम् शरीर के अन्य भागों में ले जाते हैं। जब इन रसायनों से संबंधित तंत्रिका तंत्र की कार्यप्रणाली सही से कार्य नहीं करती है तब तंत्रिका रिसेप्टरों और तंत्रिका तंत्र में बदलाव आ जाता है। जिससे अवसाद (depression) होता है।

नशीले पदार्थों का सेवन | Drug abuse-

अधिक मात्रा में एवम् लगातार नशीले पदार्थों का सेवन न केवल आपके शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, बल्कि इससे आपका मानसिक स्वास्थ्य भी खराब होने लगता है। और व्यक्ति मानसिक रोग का शिकार बन जाता है।

बचपन में किसी दुर्घटना का होना | Accident in childhood-

जब किसी बच्चे के साथ कोई बड़ी दुर्घटना, मां – बाप या परिवार वाले किसी अन्य सदस्य की मौत होने से बच्चे के दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। इस प्रकार वह मानसिक रोग का शिकार बन जाता है।

मानसिक रोग का उपचार | Treatment of mental illness.

जैसा कि ऊपर भी बताया गया है कि मानसिक रोगों पर ध्यान न देने से ये समय के साथ बढ़ जाते हैं। और इसका खामियाजा मनोरोगी को भरना पड़ता है। ठीक इसी के विपरीत मानसिक रोगी पर ध्यान देने पर इसका उपचार संभव है।

मानसिक रोग के उपचार हेतु निम्नलिखित उपाय हैं:-

मनोचिकित्सक के पास जाना –

मनोचिकित्सक एक मनोरोगी के मस्तिष्क की अच्छे से जांच करके उसका उपचार कर सकता है। इसलिए मनोचिकित्सक के पास एक मनोरोगी के उपचार का बेहतर विकल्प हो सकता है।

योग करना –

योग करना एक मानसिक रोगी के लिए बेहतर उपचार हो सकता है। मानसिक रोगी को विशेषतः ध्यान लगाने वाले आसन करने चाहिए। इस प्रकार से आपके मस्तिष्क को ऊर्जा प्राप्त होती है और आपका मन शांत रहता है। इस उपचार से आपका मानसिक रोग ठीक हो सकता है।

दवा लेना –

मानसिक रोग को रोकने के लिए एवम् उसे ठीक करने के लिए उचित दवाएं लेना आवश्यक है। मानसिक रोगियों के लिए दवाओं का प्रयोग सामान्यतः मनोचिकित्सक की उपस्थिति में किया जाता है।

अस्पताल में भर्ती होना –

सामान्यतः एक मनोरोगी की निगरानी, स्थिरीकरण एवम् सही पोषण के लिए व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती होना आवश्यक है। आत्मघाती सोच और गंभीर मानसिक रोगियों का अस्पताल में भर्ती होना आवश्यक है।

दोस्तो यदि आपको हमारी ये (मानसिक रोग या विकार: लक्षण, कारण और उपचार।) पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें।

-: जय हिन्द :- This image is showing to mental illness disease.This image is showing to mental illness disease.

2 thoughts on “मानसिक रोग या विकार: लक्षण, कारण और उपचार।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.